बॉलीवुड की इन 10 धाकड़ फिल्मों का रीमेक बनाने से खुद को नहीं रोक पाया हॉलीवुड - Filmy-Mantra.com - Get all the latest updates of Bollywood, Hollywood movies updates

Friday, 2 June 2017

बॉलीवुड की इन 10 धाकड़ फिल्मों का रीमेक बनाने से खुद को नहीं रोक पाया हॉलीवुड

फिल्म कोई भी हो, उसके पात्रों में हर दर्शक अपना किरदार ढूंढ़ लेता है। शायद यही वजह है कि फिल्मों का दौर बना रहता है। गरीबी और भुखमरी की समस्याएं भी रुपहले पर्दे का आकर्षण कम नहीं होने देतीं। टिकट 20 रुपये का मिले या 2000 का, फिल्मों के लिए पैसे निकल ही आते हैं। फिल्मी बाजार को हरा-भरा रखने के लिए निर्माता-निर्देशक भी किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार रहते हैं। फिल्में जिस तेजी से बन रही हैं, उसके लिए फिल्मकारों को खुद स्क्रिप्ट तैयार करना और उस पर काम करना असंभव जान पड़ता है। यानी रास्ता फिल्मों की नकल यानी कॉपी का बचता है। इस काम को आजकल पेशेवर भी माना जाता है और इसे 'रीमेक' कहते हैं। 

दुनिया जानती है कि बॉलीवुड को रीमेक के मामले में महारत हासिल है। अक्सर फिल्मी शौकीनों के मुंह से भी यह बात बर्बस निकल जाती है कि फलां फिल्म फलां हॉलीवुड फिल्म की रीमेक है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हॉलीवुड भी इस काम में पीछे नहीं है। यही नहीं, ऐसी हॉलीवुड फिल्मों की लंबी फेहरिस्त है जो बॉलीवुड की कॉपी रहीं। क्या आप ऐसी फिल्मों के बारे में जानते हैं? नहीं? तो चलिए हम बताते हैं। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पूरी स्टोरी।

संगम- पर्ल हार्बर

राज कपूर की 'संगम' अपने जमाने में इतनी हिट हुई कि हॉलीवुड ने भी इसकी कॉपी कर ली। 1964 में लव ट्राइएंगल पर बनी 'संगम' को हॉलीवुड ने 'पर्ल हार्बर' के नाम से बनाया। यह 2001 में रिलीज हुई। इसके नाम की आलोचना हुई। आलोचकों ने कहा कि 'पर्ल हार्बर' भी फिल्म 'संगम' की त्रिकोणी प्रेम कहानी पर आधारित है, लेकिन उसका नाम दर्शकों को गुमराह करता है।

​जब वी मेट- लीप ईयर

साल 2010 में आई हॉलीवुड फिल्म 'लीप ईयर' को बनाने वाले दावा करते हैं कि यह फिल्म 2007 में आई बॉलीवुड फिल्म 'जब वी मेट' का रीमेक नहीं है। लेकिन फिल्म की कहानी हूबहू रीमेक ही लगती है। दोनों ही फिल्मों में हीरोइन को बातूनी और बेपरवाह दिखाया गया है जो अपने प्रेमी को शादी का प्रस्ताव देने के लिए स्ट्रगल करती है। अचानक से उसके सफर में उसे एक लकी बवॉय मिलता है। उनमें बहस होती है। वे एक होटल के एक ही कमरे में ठहरते हैं। उन्हें प्यार हो जाता है। लेकिन वे अलग हो जाते हैं और साथ में गुजारा गया थोड़ा समय उनका जीवन पूरी तरह से बदल देता है। वे फिर से मिलते हैं और कहानी खत्म हो जाती है। दोनों फिल्मों में एक मामूली फर्क है कि लीप ईयर आयरिश परंपराओं को सहेजे आयरलैंड का चित्रण प्रस्तुत करती है। वहीं, जब वी मेट के पास इसके जबरदस्त गानों का भंडार होता है।

ए वेडनेसडे - ए कॉमन मैन

नसीरुद्दीन अभिनीत 'ए वेडनेसडे' जब आई तो दर्शकों को हिलाकर रख दिया। यह फिल्म 2008 में आई थी। इसी पर आधारिक ऑस्कर अवॉर्डी अभिनेता बेन किंग्सले और बेन क्रॉस ने हॉलीवुड फिल्म 'ए कॉमन मैन' बनाई। इसे श्रीलंकाई फिल्म मेकर चंद्रन रत्नम ने डायरेक्ट किया था। इस हॉलीवुड फिल्म ने भी खूब धमाल मचाया और इसे बेस्ट पिक्चर, बेस्ट डायरेक्टर, बेस्ट एक्टर जैसे पुरस्कारों से मैड्रिड इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिव में नवाजा गया। वहीं, न्यूयॉर्क फेस्टिवल के इंटरनेशनल टेलीविजन एंड फिल्म अवॉर्ड की फीचर फिल्म कैटेगरी में इसे ब्रॉन्ज मेडल मिला। 

विक्की डोनर- डिलीवरी मैन

2012 में आई अंशुमान खुराना और यामी गौतम की फिल्म 'विक्की डोनर' की सफलता ने भी हॉलीवुड को आकर्षित किया। इसके साल भर बाद ही यानी 2013 में 'स्पर्म डोनेशन' की थीम पर हॉलीवुड फिल्म 'द डिलिवरी मैन' आई। दर्शकों ने कहा कि दोनों ही फिल्मों में काफी समानता है। इसलिए द डिलिवरी मैन को विक्की डोनर का रीमेक कहा गया। 

आह्वानम्- डाइवोर्स इन्विटेशन

ऐसा नहीं है कि हॉलीवुड ने बॉलीवुड को ही कॉपी किया। कॉपी करने के माममे में उसने टॉलीवुड को भी नहीं छोड़ा। साल 1997 में एक तेलुगू फिल्म आई 'आह्वानम्'। इस फिल्म को 'द डाइवोर्स इन्विटेशन' के नाम से अंग्रेजी में बनाया गया। खास बात यह है कि दोनों ही फिल्मों को एक ही डायरेक्टर एसवी कृष्ण रेड्डी ने डायरेक्ट किया। द डाइवोर्स इन्विटेशन 2012 में आई थी, और इसे इसकी रोमांटिक कॉमेडी के लिए खूब सराहना मिली।

 

मैंने प्यार क्यों किया - जस्ट गो विद इट

सल्लू मियां यानी सलमान खान अभिनीत फिल्म 'मैंने प्यार क्यों किया' (2005) का भी हॉलीवुड रीमेक बना। 'जस्ट गो विद इट' के सीन सल्लू की फिल्म की याद दिलाते हैं। इस फिल्म में जेन एनिस्टन और एडम सेंडलर ने काम किया था।

डर- फियर

'डर' बॉलीवुड की सबसे जानदार थ्रिलर फिल्मों में से एक बताई जाती है। इस फिल्म में शाहरुख खान ने ऐसा किरदार निभाया कि लोगों ने कहा कि कोई भी उसकी जगह नहीं ले पाएगा। फिल्म की कहानी और अभिनय ने हॉलीवुड को भी इसका रीमेक 'फियर' बनाने पर मजबूर कर दिया। 
 

रंगीला - विन ए डेट विद टैड हैमिल्टन

1995 में आई 'रंगीला' और 2004 में आई हॉलीवुड फिल्म 'विन ए डेट विद टैड हैमिल्टन' की कहानी तकरीबन एक जैसी है। रंगीला में उर्मिला मातोड़कर ऐसी लड़की का किरदार निभाती हैं जिसे हर हाल में हीरो की आने वाले नई फिल्म में रोल चाहिए होता है। वहीं, हॉलीवुड फिल्म में हीरोइन को हर हाल में टैड हैमिल्टन के साथ एक डेट चाहिए होती है।

छोटी सी बात- हिच

2005 में आई हॉलीवुड फिल्म 'हिच' उससे तकरीबन 30 साल पहले आई बॉलीवुड फिल्म 'छोटी सी बात' का रीमेक थी। छोटी सी बात 1975 में आई थी। खास बात यह भी है कि छोटी सी बात का बॉलीवुड ने भी साल 2007 में फिल्म पार्टनर के तौर पर रीमेक किया। इन फिल्मों की कहानी में काफी समानता है।

लेडीज वर्सेस रिक्की बहल - द अदर वुमेन

2014 में आई हॉलीवुड फिल्म 'द अदर वुमेन' को देखने के बाद भी ज्यादातर दर्शकों से यही प्रतिक्रिया आई कि फिल्म 2011 में आई बॉलीवुड फिल्म 'लेडीज वर्सेस रिक्की बहल' का रीमेक है।

सोर्स- quora.com

No comments:

Post a Comment